*डायल 100 वाहन के आरक्षक, और पायलट ने कुत्तों के हमले की चपेट मे आए  हिरण की बचाई जान*

*मुलताई।*✍️ विजय खन्ना

आमतौर पर डायल 100 वाहन को थाना क्षेत्र में कोई दुर्घटना विवाद होने की सूचना पर पीड़ित को राहत देने के तत्काल मौके पर पहुंचने की जिम्मेदारी सौंपी गई है।  इस जिम्मेदारी के साथ डायल हंड्रेड वाहन के पायलट और आरक्षक  किसी निरीह पशु की जान बचाने के लिए सजग भूमिका  भी निभाने में अपना योगदान दे रहे हैं। ऐसा ही एक मामला गुरुवार को सामने आया। हाईवे से ग्राम सोनोली जाने वाले मार्ग पर हिरन का बच्चा विचरण कर रहा था। हिरण के बच्चे को आवारा कुत्तों ने घेर कर उस पर हमला कर दिया। डायल हंड्रेड वाहन को सोनोली मार्ग पर  मंदिर के पास कुत्तों द्वारा हिरण के बच्चे को घेरकर हमला करने की सूचना मिली तो तत्काल  गुरुवार दोपहर 12 बजे के दरमियान डायल हंड्रेड वाहन के पायलट पंकज डहारें और आरक्षक विवेक,गजराज मौके पर पहुंचे।कुत्तों को भगाकर घायल हिरण के बच्चे को वाहन में रखकर मुलताई लाकर वन विभाग को सुपुर्द किया। वन विभाग के कर्मियों ने हिरण के बच्चे का पशु चिकित्सक से उपचार कराया। वन विभाग के कर्मियों ने बताया कि हिरण के बच्चे के स्वस्थ होने के बाद उसे जंगल में छोड़ देंगे।

*बुधवार को  कपड़ा व्यवसाई ने बचाई थी हिरण की जान*

 बुधवार को  ग्राम परमंडल से हेटी खापा जाने वाले मार्ग पर विचरण  कर रहे एक हिरण के बच्चे को  आवारा कुत्तों ने घेरकर घायल कर दिया था इस दौरान मार्ग से गुजर रहे ऑटो एंबुलेंस योजना मुलताई के संयोजक कपड़ा व्यवसाई दीपेश बोथरा ने ग्रामीण राजेश पाठेकर के सहयोग से अपने एक्टिवा वाहन पर घायल हिरण को पशु अस्पताल पहुंचाया था