कप्तान हरमनप्रीत कौर की वापसी से उत्साहित भारतीय महिला क्रिकेट टीम मजबूत आस्ट्रेलिया के खिलाफ गुरुवार से शुरू होने वाली तीन टी-20 मैचों की सीरीज में जीत दर्ज करके इस दौरे का सकारात्मक अंत करने की कोशिश करेगी। हरमनप्रीत अंगूठे की चोट के कारण वनडे सीरीज और एकमात्र डे-नाइट टेस्ट मैच में नहीं खेल पाई थीं, लेकिन अब वह फिट हैं जिससे टीम की बल्लेबाजी का आक्रामक पक्ष मजबूत हुआ है जिसमें युवा शेफाली वर्मा और स्मृति मंधाना की सलामी जोड़ी शानदार फार्म में चल रही हैं।

आस्ट्रेलियाई दौरे के आखिरी चरण के मैचों से पहले मंधाना आत्मविश्वास से ओतप्रोत हैं। उन्होंने अभी कुछ दिन पहले ही अपना पहला टेस्ट शतक लगाया था। यह सीनियर बल्लेबाज निश्चित तौर पर उस लय को बरकरार रखने के लिए प्रतिबद्ध होगी हालांकि दोनों प्रारूपों में बहुत अंतर है।

हरमनप्रीत के अलावा युवा शेफाली पर भी निगाह रहेंगी जो आक्रामक अंदाज में बल्लेबाजी करने के लिए जानी जाती हैं। इस दौरे के दौरान भारतीय टीम ने दिखाया कि वह कुछ समय के अंदर ही विभिन्न प्रारूपों से सांमजस्य बिठा सकती है। इससे वे गुलाबी गेंद से खेले गए टेस्ट में भी दबदबा बनाने में सफल रही। इससे पहले उसने वनडे में आस्ट्रेलिया का 26 जीत का अभियान थामा था।

हरमनप्रीत के लिए चोट बड़ा झटका था लेकिन अगले साल होने वाले वनडे विश्व कप से पहले उनके लिए यह टी-20 सीरीज बेहद महत्वपूर्ण होगी। वह खेल के सबसे छोटे प्रारूप में मैच विजेता हैं और वह इन मैचों में कोई मौका नहीं गंवाना चाहेंगी।आस्ट्रेलियाई गेंदबाज शेफाली, मंधाना और हरमनप्रीत को निशाने पर रखेंगे जबकि युवा जेमिमा रोड्रिग्स को अपनी फार्म हासिल करने के लिए एक और मौका मिलेगा। उन्होंने राष्ट्रीय टीम की तरफ से हाल में भले ही अनुकूल प्रदर्शन नहीं किया लेकिन इंग्लैंड में हंड्रेड में उन्होंने प्रभावशाली बल्लेबाजी की थी। आस्ट्रेलिया के उछाल वाले विकेट भी उनके खेल के अनुकूल हैं।

आस्ट्रेलिया के पास कई आलराउंडर हैं जिससे वह इस प्रारूप में काफी मजबूत नजर आता है लेकिन भारत उसे कड़ी चुनौती देने के लिये पूरी तरह से तैयार लगता है।भारत को टी-20 में पिछले कुछ समय से अनुभवी गेंदबाज झूलन गोस्वामी की सेवाएं नहीं मिल रही हैं लेकिन मेघना सिंह, पूजा वस्त्राकर और शिखा पांडे जैसी गेंदबाजों ने अच्छा प्रदर्शन किया है। बल्लेबाजी में भारत की निगाहें मध्य क्रम में विकेटकीपर ऋचा घोष और यास्तिका भाटिया पर भी टिकी रहेंगी।

आस्ट्रेलिया की कप्तान मेग लैनिंग को उम्मीद होगी कि उनके आलराउंडर फिर से अंतर पैदा करने में सफल रहेंगे। आस्ट्रेलिया इस सीरीज में आलराउंडर ताहलिया मैकग्रा को भी पदार्पण का मौका दे सकता है जिन्होंने टेस्ट मैच में प्रभावशाली प्रदर्शन किया था। हाल की फार्म को देखते हुए अन्नाबेल सदरलैंड और निकोला कैरी के शानदार रिकार्ड को देखते हुए इन दोनों का भी अंतिम एकादश में जगह बनाने का दावा मजबूत है।