ग्वालियर अरब सागर से रही नमी के कारण मंगलवार को शहर का मौसम बदल गया। बादलों के चलते न्यूनतम तापमान 12.0 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। सुबह 6 बजे से बारिश की झड़ी लगी है और सुबह साढ़े आठ बजे तक 3.8 मिमी बारिश हो चुकी है। फसलों के लिए अमृत बरसा है। मावठ की यह पहली बारिश है। मौसम विभाग के अनुसार अगले 24 घंटे बारिश के आसार हैं। बारिश के कारण दिन में ठंड बढ़ेगी। सुबह धूप नहीं निकलने से लोग रजाई में रहे। अगले 48 घंटे में कोहरा भी छाएगा। ग्वालियर के अलावा, शिवपुरी, मुरैना, भिंड में भी रात से बारिश का दाैर जारी है।

जम्मू कश्मीर में एक साथ दो पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हैं। एक गुजर रहा है, और दूसरा रहा है। यह पश्चिमी विक्षोभ 29 दिसंबर तक सक्रिय रह सकते हैं। पूर्वी राजस्थान, पश्चिमी मध्य प्रदेश तक एक ट्रफ बनी हुई है। अरब सागर से बड़ी मात्रा में नमी रही है। यह नमी ग्वालियर-चंबल संभाग, बुंदलेखंड जबलपुर संभाग की ओर इकट्ठा हो रही है। बिहार के पास चक्रवातीय घेरा बना हुआ है। इस चक्रवातीय घेरे से अरब सागर की नमी ऊपर उठ रही है, जिससे मौसम में बदला आएगा। ग्वालियर के घाटीगांव, डबरा में ओलावृष्टि के साथ बारिश होगी। ग्वालियर, मुरार, भितरवार में तेज हवा के साथ बारिश होगी। शिवपुरी, भिंड, दतिया में ओलावृष्टि के साथ-साथ बारिश के आसार हैं।

बारिश के कारण हवा में पर्याप्त नमी गई है। इससे सीजन का पहला घना कोहरा आएगा। 29 दिसंबर से शहर में कोहरे की दस्तक होगी। सीजन का सबसे घना कोहरा भी छा सकता है। अभी तक 50 मीटर तक दृश्यता लाने वाला कोहरा नहीं छाया है। यह कोहरा तीन दिनों तक छा सकता है। कोहरे के कारण रात के तामपमान में गिरावट के आसार कम है। दिन का तापमान भी 20 डिग्री सेल्सियस से ऊपर रहेगा। इस कारण शीतल दिन रहने के आसार कम हैं।