पुणे । भारतीय महिला बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने कहा कि भारतीय महिला खिलाड़ियों को अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में बेहतर प्रदर्शन के लिए पेशेवर कोचिंग की सहायता लेनी होगी। सिंधु ने कहा, ‘अगर भारतीय महिला खिलाड़ियों को पेशेवर कोचिंग का मौका मिलता है तो महिलाओं के विश्व स्तर पर प्रतिनिधित्व और उनके जीतने की तादाद भी बढ़ सकती है।' सिंधु ने कहा कि पेशेवर कोचिंग के जरिये की विश्व स्तर पर होने वाले कठिन मुकाबलों के लिए जरुरी कौशल सीखा जा सकता है। इसके अलावा खेल में आ रहे तकनीकी पक्षों की भी जनकार मिलती है। पेशेवर कोचिंग से खिलाड़ियों को बड़े मुकाबलों के लिए आत्मविश्वास भी मिलता है ओर वे बेहतर तरीके से चुनौतियों का सामना कर सक्षम होती हैं। सिंधु ने टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक जीता था और ओलंपिक में दो व्यक्तिगत पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला और कुल दूसरी खिलाड़ी बनी थी। उन्होंने 2016 रियो ओलंपिक में रजत पदक जीता था। अब उनका लक्ष्य विश्व चैम्पियनशिप में जीत दर्ज करना है।