कराची । पाकिस्तान के तेज गेंदबाज मोहम्मद आमिर ने संन्यास की घोषणा के बाद उनके फैसले को पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने भी स्वीकार कर लिया है। आमिर के संन्यास के बाद पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने पीसीबी के खिलाफ बड़ा बयान देकर कहा कि 2011 क्रिकेट वर्ल्ड कप के दौरान उनके साथ भी ठीक व्यवहार नहीं किया गया था। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि 2 महीने के लिए आमिर को मुझे दे दो और वह 150 से अधिक की स्पीड से गेंदबाजी करता हुआ दिखेगा। अख्तर ने कहा, आमिर को क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करके पीसीबी प्रबंधन से निपटना चाहिए। पूर्व तेज गेंदबाज ने कहा कि जब वह 2011 में अपने रिटायरमेंट की कगार पर थे तब पीसीबी द्वारा भी उनके साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया गया था। अख्तर ने कहा, मैं खुले तौर पर कहता हूं कि मेरे साथ 2011 विश्व कप के दौरान अच्छा बर्ताव नहीं किया गया, आफरीदी द्वारा नहीं, बल्कि बाकी प्रबंधन द्वारा। मैं इसे खुले तौर पर कह रहा हूं। मुझे परेशान किया गया था, लेकिन मुझे परवाह नहीं थी क्योंकि मैंने पहले ही अपने संन्यास की घोषणा कर दी थी।
अख्तर ने कहा, आमिर को अच्छी गेंदबाजी करनी चाहिए थी और अपने प्रदर्शन में सुधार करना चाहिए ताकि कोई उन्हें टीम से बाहर न कर सके। आपको अपने डर का सामना करना होगा और आपको प्रबंधन का सामना करना होगा लेकिन प्रदर्शन करके। अख्तर ने दावा किया कि वह आमिर को सिर्फ 2 महीने में उसी तीव्रता के साथ फिर से गेंदबाजी करने के लिए प्रशिक्षित कर देंगे जैसे वह पहले थे। अख्तर ने कहा, अगर आप 2 महीने के लिए आमिर को मुझे सौंपते हैं तो हर कोई उन्हें 150 किमी प्रति घंटा से अधिक की रफ्तार से गेंदबाजी करते हुए देखेगा। मैं उसे सिखा सकता हूं कि मैंने उसे तीन साल पहले सिखाया था। वह वापसी कर सकता है। 
गौर हो कि आमिर ने संन्यास के दौरान कहा था कि सच कहूं तो मुझे नहीं लगता कि मैं इस प्रबंधन के तहत क्रिकेट खेल सकता हूं, मैं क्रिकेट छोड़ रहा हूं, अभी के लिए, मुझे मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा है, मैं इसे संभाल नहीं सकता। मैंने इसे 2010-2015 से काफी देखा है। मुझे बार-बार यह सुनना पड़ता है कि पीसीबी ने मुझमें बहुत निवेश किया है, मैं शाहिद  का शुक्रगुजार हूं, क्योंकि उन्होंने मुझे उस समय मौका दिया जब मैं प्रतिबंध के बाद वापस आया था।